107 Comments

Aurangzeb As He Was


image

One of the strangest historical oddities is that the more popular a fact grows; its authenticity becomes still more doubtful.<em

Some events which have no truth at all get propagated and people believe in them, because they are told again and again. Those ‘facts’ remain immune from criticism and investigation.

Of all the Muslim rulers who ruled vast territories of India from 712 to 1857, probably no one has received as much condemnation from western and Hindu writers as Aurangzeb. He has been castigated as a religious Muslim who was anti-Hindu, who taxed them, who tried to convert them, who discriminated against them in awarding high administrative positions, and who interfered in their religious matters. This view has been heavily promoted in the government approved text books in schools and colleges across post-partition India, these are fabrications against one of the best rulers of India who was pious, scholarly, saintly, unbiased, liberal, magnanimous, tolerant, competent and far-sighted.

Fortunately, in recent years a few Hindu historians have come out in the open disputing those allegations. For example, historian Babu Nagendranath Banerjee rejected the accusation of forced conversion of Hindus by Muslim rulers by stating that if that was their intention then in India today there would not be nearly four times as many Hindus compared to Muslim, despite the fact that Muslims had ruled for nearly a thousand years. Banerjee challenged the Hindu hypothesis that Aurangzeb was anti-Hindu by reasoning that if the latter were truly guilty of such bigotry, how could he appoint a Hindu as his military commander-in-chief?

Surely, he could have afforded to appoint a competent Muslim general in that position.

Banerjee further stated: “No-one should accuse Aurangzeb of being communal minded. In his
administration, the state policy was formulated by Hindus. The Hindus held the highest position in the state Treasury. Some prejudiced Muslim even questioned the merit of his decision to appoint non-Muslims to such high offices. The emperor refuted that by stating he had been following the dictates of the Shariah (Islamic Law) which demands appointing right persons in right place.”

During Aurangzeb’s long reign of fifty years, many Hindus, notably Jaswant Singh, Raja Rajrup, Kabir Singh, Arghanath Singh, Prem Dev Singh, Dilip Roy, and Rasik Lal Crory, held very high administrative positions. Two of the highest ranked generals in Aurangzeb’s administration, and Jaya Singh, were Hindus.

Other notable Hindu generals who commanded a garrison of two to five thousand soldiers were Raja Raja vim Singh of Udaipur, Indra Singh, Achalaji and Arjuji.

One wonders if Aurangzeb was hostile to Hindus. Why would he position all these Hindus to high positions of authority, especially in the Military, who could have rebelled against him and removed him from the throne?

Most Hindus like Akbar over Aurangzeb for his multiethnic court where Hindus were favoured. Historian Shri Sharma states that while emperor Akbar had fourteen Hindu mansabdars in his court. Aurangzeb actually had 148 high Hindu high officials in his court. But this fact is somewhat less known.

Some of the Hindu historians have accused Aurangzeb of demolishing Hindu temples. How factual is the accusation against a man, who has been known to be a saintly man, a strict adherent of Islam? The Quran prohibits any Muslim to impose his will on a non-Muslim by stating that “There is no compulsion in religion” [2:256]. The Surah al-Kafirun clearly states, “To you is your religion and to me is mine.” It would be totally unbecoming of a learned scholar of Islam of his calibre, as Aurangzeb was known to be, to do things that are contrary to the dictates of the Quran.

Interestingly, the 1946 Edition of the History text book Etihash Parichaya [Introduction to History] used in Bengal for the 5th and 6th graders states, “If Aurangzeb had the intention of demolishing Temples to make way for Mosques, there would not have been a single Temple standing erect in India. On the contrary, Aurangzeb donated huge estates for use as temple sites and support thereof in Benares, Kashmir and elsewhere. The official Documentations for these land grants are still extant.”

A stone inscription in the historic Balaji or Vishnu temple, located north of Chitrakut Balaghat, still shows that
it was commissioned by the Emperor himself. The proof of Aurangzeb’s land grant for famous Hindu religious sites in Kasi, Varanasi can easily be verified from the records extant at those sites.

The same textbook reads: “During the 50 year reign of Aurangzeb, not a single Hindu was forced to embrace Islam. He did not interfere with any Hindu religious activities.” Alexander Hamilton, a British Historian, toured India towards the End of Aurangzeb’s 50 year reign and observer that everyone was free to serve and worship God in his own way.

Now let us deal with Aurangzeb’s imposition of the Jizya tax which had drawn severe criticism from many Hindu historians. It is true that Jizya was lifted during the reign of Akbar and Jehangir and that Aurangzeb later reinstated this. Before I delve into the subject of Aurangzeb’s Jizya tax, or taxing the Non-Muslims, it is worthwhile to point out that Jizya is nothing more than a War tax which was collected only from able-bodied young non-Muslim male citizens living in a Muslim country who did not want to volunteer for the defence of the country. That is, no such tax was collected from non-Muslims who volunteered to defend the country. This tax was not collected from women, and neither from immature males nor from disabled or old citizens. For payment of such Taxes, it became incumbent upon the Muslim Government to protect the life, property and wealth of its non-Muslim citizens. If for any reason the Government failed to protect its citizens, especially during a War, the whole collected tax was to be returned. It should be pointed out here that Zakat (2.5 percent of savings) and ‘Ushr (Ten percent of agricultural products) were collected from all Muslims, who owned some wealth (beyond a certain Minimum, called Nisab). They also paid sadaqah, Fitrah, and khums. None of these were collected from any non-Muslim. As a matter of fact, the per capita collection from Muslims was manifolds of that of non-Muslims.

Further to Aurangzeb’s credit is his abolition of a lot of taxes, although this fact is not usually mentioned. In his book Mughal administration, Sir Jadunath Sarkar, foremost historian on the Mughal dynasty, mentions that during Aurangzeb’s reign in power, nearly sixty-five types of taxes were abolished, which resulted in a yearly revenue loss of fifty million rupees from the state treasury. He was a kind hearted man and led a simple life. He was a just ruler and forgave his enemies. He abolished all non-Islamic practices at his court, abolished Ilahi calendar introduced by Akbar and reinstated Islamic lunar calendar. He enforced laws against gambling and drinking. He abolished Taxes on Commodities, and inland Transport duties. He forbade the practise of Emperor being weighed in Gold and Silver on birthdays. Aurangzeb did not draw salary from state Treasury, but earned his own living by selling caps, he sewed. And selling copies of the Quran he copied by hand. While some Hindu historians are retracting the lies, the textbooks, and historic accounts in western countries have yet to admit their error, and set the record Straight.

Advertisements

107 comments on “Aurangzeb As He Was

  1. I don’t know much about Aurangzeb but there were family feuds and Akbar is definitely not only the mogul darling but one of the greatest emperors of all times. So there is no contest. I really like looking at things from a different view-point and your article does that by bringing in many new ideas about much condemned figure.

    Still, I will be cautious of calling him saintly until I really read a lot more about him.

    Thanks for sharing this. A very interesting read. I will share it on the social media.

    Love and light ❤

    Anand 🙂

    Liked by 2 people

  2. As per Abraham Eraly too, Aurangzeb was one of the most balanced and definitely not a cynic Mughal king. In fact, he killed his brothers as other Mughals but in a most justified way.

    Liked by 3 people

  3. Hello Imran
    Peace be with you
    That is great you make us learn and know about the history of India
    AURANGZEB was really a great ruler and emperror
    The points you mentioned are very good to remove all the Hindu accusations away
    I was glad when Mr google told me that his mother is Momtaz Mahal..they are a great family indeed.
    Thanks Imran for teaching us new things in your posts.
    Go ahead
    May Allah bless your steps:-)

    Liked by 2 people

  4. Thanks for the reminder. Last year I visited historical places in Delhi and the tour guide gave me indepth insight on Aurangzeb and his rule and how he is incorrectly labelled as a tyrant.

    Liked by 3 people

  5. I remember how after reading in school textbooks about how cruel Aurangzeb was ,I went home and asked my father about him and he gave me a total different insight into the matter as you wrote in your post, He was a just ruler and a man with a sense of great self respect !History may not do justice to him but Allah will ,and that’s what all matters.

    Liked by 2 people

  6. Wow. So many interesting points in this post. So glad you wrote it.

    Liked by 1 person

  7. History is often fashioned to cater the selfish agenda of communal bureaucrats so as to ensure smooth functioning of the ‘Divide and Rule’ policy. Can’t expect anything less from a nation that is gearing up to observe Nathuram Godse’s death anniversary as Balidan Diwas!

    Liked by 1 person

  8. The title caught my attention. I’ve heard that he was a simple man. The kings earlier were fond of an extravagant lifestyle, but he was down-to-earth. But it has also been said that he was the reason the mughal empire came to end. Because of his regressive policies. And about that communal thing, he ordered the beheading of guru tegh bahadur ji in chandni Chowk. That’s all I know. Can’t comment more because ‘little knowledge is a dangerous thing’ 😊

    And btw, a unique choice of topic. Loved it.

    Liked by 1 person

    • Secularism is a d.n.a is our country.
      Whoever try to pevert or disturb should be condemned strongly.

      Im not trying to defend him
      I ve read about him alot …even persian history text
      Like ‘Tarikh e Farishta’
      ‘Tarikhe Mughaliyah’
      And ‘Aurangzeb Alamgeer per ek Nazar’ by Allama Shibli Nomani.
      I find him a good man a just ruler.

      Liked by 1 person

  9. Always had I been demanding myself to write a blog on Aurangzeb. Beautifully depicted. 🙂
    Well done!

    Liked by 1 person

  10. Thank you for sharing about the saintly ruler Aurangzeb. Would you mind if I share with my friends on face book. I believe that goodness should also be spread like fragrance

    Like

  11. Well done, god bless you Imran!!!!!!

    Liked by 1 person

  12. Hello imran. I found this a really interesting read. I have taught about the Mughal Empire – some years ago now, so I can’t quote details – but I was definitely intrigued by your character study of Aurangzeb. I would be interested to know which sources you have used and why they differ from what is taught (as you say) in Hindu schools. I fully agree that stories about people can become changed, exaggerated and even distorted over the years but I don’t know enough about Aurangzeb to argue either way, although I don’t doubt that he was a very wise man. Your post has made me want to do some research of my own. I know… I can hear you sighing already. Sources accessible to me would undoubtedly be biased against Aurangzeb. I can only look and find out … As always, Imran, I keep an open mind about all things. Many regards to you and thanks for a thought-provoking post.

    Liked by 1 person

    • As I promissed
      Even criticim will b welcome.
      Actauly I wrote this article 4 years ago ..for Delhi based monthly magazine ‘Comapanion’
      I ve to find check my old rough copy.
      Off course my artcilles based in facts n authentic sources
      Fron persian n urdu historical books.
      I. Can tell you 2 books 1 persian’S Urdu translation ‘Tarikh e Farishta’ ie; History of Fraishta (Qasim Farishta)
      And 2nd book of . A great Historian Allama Shibli Numani’s urdu book ‘ “Aurangzeb Alamgeer ek Nazar me”
      Ie:
      Emperor Aurangzeb in a glance

      Liked by 2 people

      • Some in-depth reading there, Imran. I’m sure you know a great deal about Aurangzeb that I could probably never find over here. History fascinates me in the way it can be interpreted so differently. I don’t criticise anyone’s perspective, as long as it’s based on documented evidence – just as yours, dear Imran undoubtedly is. But still, we have the undeniable fact that there are always two sides to any coin. Interpretations by conqueror and conquered are always different. I only have to look at events in British history to know that. Have a fantastic weekend, Imran.

        Liked by 1 person

      • Yes
        I do believe
        That God gift to mankind a rational mind and common sense which is unfortunately not common nowadays,
        This is field of knowledge v ought to bringforth authentic document evidences not our whims n emotions.
        Yea one more Historian mr. Vishambhar Nath Pandey a former mayor of Allahbad city and a Governer of east india province Odisha formerly known as Odissa. And he was also a historian of Benaras hindu university of great repute.
        I.ll send you a soft copy of his work Etihaas ke saath annaya ie; unjustice with history
        Being a hindu he defended Aurangzeb.
        Send me your facebook link or email address I may send you his work..if could able to find in english or else I.ll translate it for you in english.

        Gratitude
        Love & Regards !!!

        Like

      • Bishambhar Nath Pande – Wikipedia, the free encyclopedia – https://en.m.wikipedia.org/wiki/Bishambhar_Nath_Pande

        Like

  13. This is a wonderful post and I think you should develop it into an essay that should become part of the educational books on Mughals era, Emperors etc.
    On the criticism that is dolled out to Aurangzeb is not new, we can just look at the reign of another ruler of sub continent Queen Victoria who also self declared herself as the Empress of India and under whose rule the whole Hindustan suffered like a weeping bird whose wings were cut off.
    Imran, you should continue writing such thought provoking pieces for readers, I like very much coming here to read your work.

    Liked by 1 person

  14. I just wanted to say thank you
    My younger brother Imran for supporting me
    Cheers:-)

    Liked by 1 person

  15. It would be Very good if You would enumerate and post the NAMES, and TITLES, like the General of Aurangzeb, etc. Hearty Regards.

    Liked by 1 person

  16. yeah, tanveer808@yahoo.com
    actually i want you to check my wrte up now and guide me if there are any mistakes with your suggestions plz

    Liked by 1 person

  17. I’ve read a really good historical blog after long time. Moreover I was searching to read about the same topic and here it’s 😊. Well written.

    Liked by 1 person

  18. A very informative article, considering the fact that we were taught so less about Aurangzeb during our school days.

    Liked by 1 person

  19. Tipu Sultan’s name is ridiculed likewise. I must tell you that your articles are very informative.

    Liked by 1 person

  20. Hello Imran..this post will have a lot of people to get up and revisit history..lot of points to ponder over..a well reaserched post on the detestable Aurangazeb!

    Liked by 1 person

  21. We indeed are being taught lies. Thanks for enlightening me. I also know that Aurangzeb never indulged in alcohol and controlled his desires, unlike his brothers. He also had a normal tomb built for him, that was constructed by the money he earned. Thanks again. The world is not as clear as it seems to be.

    Liked by 1 person

  22. An eye opener for many!!

    Liked by 1 person

  23. Those who trying to rewrite history
    N say “remove mug has from our history books”

    Like

  24. Damage to Aurangzeb character and personality is also done by the shia Muslims, for he did fight the Iranian backed rebellion during his regime.

    Liked by 1 person

  25. Then what was the reason of martyrdom of 9 and 10 Sikh guru and many more Sikh commanders ?

    Liked by 1 person

  26. Never heard before… ty for enlightenment

    Liked by 1 person

  27. अपना वो हिस्सा वापस लिया है जो सम्राट औरंगज़ेब (RA) हमसे 1680 में छीन कर ले गया था: चीन
    आज़ादी के बाद जब चीन ने कैलाश पर्वत, कैलाश मानसरोवर और अरुणाचल प्रदेश पर कब्ज़ा कर लिया तो नेहरू जी UNO पहुंचे की चीन ने ज़बरदस्ती क़ब्ज़ा कर लिया है, हमारी ज़मीन हमें वापस दिलाई जाए, इस पर चीन ने जवाब दिया कि हमने भारत की ज़मीन पर कब्ज़ा नहीं किया है बल्कि अपना वो हिस्सा वापस लिया है जो सम्राट औरंगज़ेब (RA) हमसे 1680 में छीन कर ले गया था.
    चीन ने पहले भी इस हिस्से पर कब्ज़ा किया था, जिस पर सम्राट औरंगज़ेब (RA) ने उस वक़्त चीन के राजा स ख़त लिख कर गुज़ारिश करी थी के कैलाश मानसरोवर हिंदुस्तान का हिस्सा है और हमारे हिन्दू भाईयों की आस्था का हिस्सा है, लिहाज़ा इसे छोड़ दें, जब देड़ महीने तक जवाब नहीं आया तो सम्राट औरंगज़ेब (RA) ने चीन पर चढ़ाई कर दी और देड़ दिन में हिंदुस्तानी ज़मीन लड़ कर वापस छीन ली.
    ये वही सम्राट औरंगज़ेब (RA) है जिसे कट्टर इस्लामी आतंकवादी कहा जाता है, सिर्फ उसी ने हिम्मत दिखाई और चीन पर surgical strike कर दी थी.
    इतिहास के इस हिस्से की authenticity को चेक करना हो तो आज़ादी के वक़्त के UNO के हलफनामे जो आज भी संसद में महफूज़ हैं पढ़ सकते हैं l.

    Like

  28. सभी धर्मों को सम्मान व चन्दा देता था औरंगज़ेब
    =============================
    पुस्‍तक का नाम, भारतीय संस्क्रति और मुग़ल सम्राज्य
    लेखक: प्रो. बी. एन पाण्डेय, भूतपूर्व राज्यपाल उडीसा, राज्यसभा के सदस्य, इलाहाबाद, नगरपालिका के चेयरमैन एवंम इतिहासकार
    ***************************************

    जब मैं इलाहाबाद नगरपालिका का चेयरमैन था (1948 ई. से 1953 ई. तक) तो मेरे सामने दाखिल-खारिज का एक मामला लाया गया। यह मामला सोमेश्वर नाथ महादेव मन्दिर से संबंधित जायदाद के बारे में था। मन्दिर के महंत की मृत्यु के बाद उस जायदाद के दो दावेदार खड़े हो गए थे। एक दावेदार ने कुछ दस्तावेज़ दाखिल किये जो उसके खानदान में बहुत दिनों से चले आ रहे थे। इन दस्तावेज़ों में शहंशाह औरंगज़ेब के फ़रमान भी थे। औरंगज़ेब ने इस मन्दिर को जागीर और नक़द अनुदान दिया था। मैंने सोचा कि ये फ़रमान जाली होंगे। मुझे आश्चर्य हुआ कि यह कैसे हो सकता है कि औरंगज़ेब जो मन्दिरों को तोडने के लिए प्रसिद्ध है, वह एक मन्दिर को यह कह कर जागीर दे सकता है कि यह जागीर पूजा और भोग के लिए दी जा रही है। आखि़र औरंगज़ेब कैसे बुतपरस्ती के साथ अपने को शरीक कर सकता था। मुझे यक़ीन था कि ये दस्तावेज़ जाली हैं, परन्तु कोई निर्णय लेने से पहले मैंने डा. सर तेज बहादुर सप्रु से राय लेना उचित समझा। वे अरबी और फ़ारसी के अच्छे जानकार थे। मैंने दस्तावेज़ें उनके सामने पेश करके उनकी राय मालूम की तो उन्होंने दस्तावेज़ों का अध्ययन करने के बाद कहा कि औरंगजे़ब के ये फ़रमान असली और वास्तविक हैं। इसके बाद उन्होंने अपने मुन्शी से बनारस के जंगमबाडी शिव मन्दिर की फ़ाइल लाने को कहा। यह मुक़दमा इलाहाबाद हाईकोर्ट में 15 साल से विचाराधीन था। जंगमबाड़ी मन्दिर के महंत के पास भी औरंगज़ेब के कई फ़रमान थे, जिनमें मन्दिर को जागीर दी गई थी।

    इन दस्तावेज़ों ने औरंगज़ेब की एक नई तस्वीर मेरे सामने पेश की, उससे मैं आश्चर्य में पड़ गया। डाक्टर सप्रू की सलाह पर मैंने भारत के पिभिन्न प्रमुख मन्दिरों के महंतो के पास पत्र भेजकर उनसे निवेदन किया कि यदि उनके पास औरंगज़ेब के कुछ फ़रमान हों जिनमें उन मन्दिरों को जागीरें दी गई हों तो वे कृपा करके उनकी फोटो-स्टेट कापियां मेरे पास भेज दें। अब मेरे सामने एक और आश्चर्य की बात आई। उज्जैन के महाकालेश्वर मन्दिर, चित्रकूट के बालाजी मन्दिर, गौहाटी के उमानन्द मन्दिर, शत्रुन्जाई के जैन मन्दिर और उत्तर भारत में फैले हुए अन्य प्रमुख मन्दिरों एवं गुरूद्वारों से सम्बन्धित जागीरों के लिए औरंगज़ेब के फरमानों की नक़लें मुझे प्राप्त हुई। यह फ़रमान 1065 हि. से 1091 हि., अर्थात 1659 से 1685 ई. के बीच जारी किए गए थे। हालांकि हिन्दुओं और उनके मन्दिरों के प्रति औरंगज़ेब के उदार रवैये की ये कुछ मिसालें हैं, फिर भी इनसे यह प्रमाण्ति हो जाता है कि इतिहासकारों ने उसके सम्बन्ध में जो कुछ लिखा है, वह पक्षपात पर आधारित है और इससे उसकी तस्वीर का एक ही रूख सामने लाया गया है। भारत एक विशाल देश है, जिसमें हज़ारों मन्दिर चारों ओर फैले हुए हैं। यदि सही ढ़ंग से खोजबीन की जाए तो मुझे विश्वास है कि और बहुत-से ऐसे उदाहरण मिल जाऐंगे जिनसे औरंगज़ेब का गै़र-मुस्लिमों के प्रति उदार व्यवहार का पता चलेगा। औरंगज़ेब के फरमानों की जांच-पड़ताल के सिलसिले में मेरा सम्पर्क श्री ज्ञानचंद और पटना म्यूजियम के भूतपूर्व क्यूरेटर डा. पी एल. गुप्ता से हुआ। ये महानुभाव भी औरंगज़ेब के विषय में ऐतिहासिक दृस्टि से अति महत्वपूर्ण रिसर्च कर रहे थे। मुझे खुशी हुई कि कुछ अन्य अनुसन्धानकर्ता भी सच्चाई को तलाश करने में व्यस्त हैं और काफ़ी बदनाम औरंगज़ेब की तस्वीर को साफ़ करने में अपना योगदान दे रहे हैं। औरंगज़ेब, जिसे पक्षपाती इतिहासकारों ने भारत में मुस्लिम हकूमत का प्रतीक मान रखा है। उसके बारें में वे क्या विचार रखते हैं इसके विषय में यहां तक कि ‘शिबली’ जैसे इतिहास गवेषी कवि को कहना पड़ाः

    तुम्हें ले-दे के सारी दास्तां में याद है इतना।
    कि औरंगज़ेब हिन्दू-कुश था, ज़ालिम था, सितमगर था।।

    औरंगज़ेब पर हिन्दू-दुश्मनी के आरोप के सम्बन्ध में जिस फरमान को बहुत उछाला गया है, वह ‘फ़रमाने-बनारस’ के नाम से प्रसिद्ध है। यह फ़रमान बनारस के मुहल्ला गौरी के एक ब्राहमण परिवार से संबंधित है। 1905 ई. में इसे गोपी उपाघ्याय के नवासे मंगल पाण्डेय ने सिटि मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया था। इसे् पहली बार ‘एसियाटिक- सोसाइटी’ बंगाल के जर्नल (पत्रिका) ने 1911 ई. में प्रकाशित किया था। फलस्वरूप रिसर्च करनेवालों का ध्यान इधर गया। तब से इतिहासकार प्रायः इसका हवाला देते आ रहे हैं और वे इसके आधार पर औरंगज़ेब पर आरोप लगाते हैं कि उसने हिन्दू मन्दिरों के निर्माण पर प्रतिबंध लगा दिया था, जबकि इस फ़रमान का वास्तविक महत्व उनकी निगाहों से ओझल रह जाता है। यह लिखित फ़रमान औरंगज़ेब ने 15 जुमादुल-अव्वल 1065 हि. (10 मार्च 1659 ई.) को बनारस के स्थानिय अधिकारी के नाम भेजा था जो एक ब्राहम्ण की शिकायत के सिलसिले में जारी किया गया था। वह ब्राहमण एक मन्दिर का महंत था और कुछ लोग उसे परेशान कर रहे थे। फ़रमान में कहा गया हैः ‘‘अबुल हसन को हमारी शाही उदारता का क़ायल रहते हुए यह जानना चाहिए कि हमारी स्वाभाविक दयालुता और प्राकृतिक न्याय के अनुसार हमारा सारा अनथक संघर्ष और न्यायप्रिय इरादों का उद्देश्य जन-कल्याण को बढ़ावा देना है और प्रत्येक उच्च एवं निम्न वर्गों के हालात को बेहतर बनाना है। अपने पवित्र कानून के अनुसार हमने फैसला किया है कि प्राचीन मन्दिरों को तबाह और बरबाद नहीं किया जाय, अलबत्ता नए मन्दिर ना बनए जाएँ। हमारे इस न्याय पर आधारित काल में हमारे प्रतिष्ठित एवं पवित्र दरबार में यह सूचना पहुंची है कि कुछ लोग बनारस शहर और उसके आस-पास के हिन्दू नागरिकों और मन्दिरों के ब्राहम्णों-पुरोहितों को परेशान कर रहे हैं तथा उनके मामलों में दख़ल दे रहे हैं, जबकि ये प्राचीन मन्दिर उन्हीं की देख-रेख में हैं। इसके अतिरिक्त वे चाहते हैं कि इन ब्राहम्णों को इनके पुराने पदों से हटा दें। यह दखलंदाज़ी इस समुदाय के लिए परेशानी का कारण है। इसलिए यह हमारा फ़रमान है कि हमारा शाही हुक्म पहुंचते ही तुम हिदायत जारी कर दो कि कोई भी व्यक्ति ग़ैर-कानूनी रूप से दखलंदाजी ना करे और ना उन स्थानों के ब्राहम्णों एवं अन्य हिन्दु नागरिकों को परेशान करे। ताकि पहले की तरह उनका क़ब्ज़ा बरक़रार रहे और पूरे मनोयोग से वे हमारी ईश-प्रदत्त सल्तनत के लिए प्रार्थना करते रहें। इस हुक्म को तुरन्त लागू किया जाये।’’

    इस फरमान से बिल्कुल स्पष्ट हैं कि औरंगज़ेब ने नए मन्दिरों के निर्माण के विरूद्ध कोई नया हुक्म जारी नहीं किया, बल्कि उसने केवल पहले से चली आ रही परम्परा का हवाला दिया और उस परम्परा की पाबन्दी पर ज़ोर दिया। पहले से मौजूद मन्दिरों को ध्वस्त करने का उसने कठोरता से विरोध किया। इस फ़रमान से यह भी स्पष्ट हो जाता है कि वह हिन्दू प्रजा को सुख-शान्ति से जीवन व्यतीत करने का अवसर देने का इच्छुक था।
    यह अपने जैसा केवल एक ही फरमान नहीं है। बनारस में ही एक और फरमान मिलता है, जिससे स्पष्ट होता है कि औरंगज़ेब वास्तव में चाहता था कि हिन्दू सुख-शान्ति के साथ जीवन व्यतीत कर सकें।

    यह फरमान इस प्रकार हैः ‘‘रामनगर (बनारस) के महाराजा धिराज राजा रामसिंह ने हमारे दरबार में अर्ज़ी पेश की हैं कि उनके पिता ने गंगा नदी के किनारे अपने धार्मिक गुरू भगवत गोसाईं के निवास के लिए एक मकान बनवाया था। अब कुछ लोग गोसाईं को परेशान कर रहे हैं। अतः यह शाही फ़रमान जारी किया जाता है कि इस फरमान के पहुंचते ही सभी वर्तमान एवं आने वाले अधिकारी इस बात का पूरा ध्यान रखें कि कोई भी व्यक्ति गोसाईं को परेशान एवं डरा-धमका ना सके, और ना उनके मामलें में हस्तक्षेप करे, ताकि वे पूरे मनोयोग के साथ हमारी ईश-प्रदत्त सल्तनत के स्थायित्व के लिए प्रार्थना करते रहें। इस फरमान पर तुरंत अमल किया जाए।’’

    (तारीख-17 रबी उस्सानी 1091 हिजरी) जंगमबाड़ी मठ के महंत के पास मौजूद कुछ फरमानों से पता चलता है कि औरंगज़ैब कभी यह सहन नहीं करता था कि उसकी प्रजा के अधिकार किसी प्रकार से भी छीने जाएँ, चाहे वे हिन्दू हों या मुसलमान। वह अपराधियों के साथ सख़्ती से पेश आता था। इन फरमानों में एक जंगम लोगों (शैव सम्प्रदाय के एक मत के लोग) की ओर से एक मुसलमान नागरिक के दरबार में लाया गया, जिस पर शाही हुक्म दिया गया कि बनारस सूबा इलाहाबाद के अफ़सरों को सूचित किया जाता है कि पुराना बनारस के नागरिकों अर्जुनमल और जंगमियों ने शिकायत की है कि बनारस के एक नागरिक नज़ीर बेग ने क़स्बा बनारस में उनकी पांच हवेलियों पर क़ब्जा कर लिया है। उन्हें हुक्म दिया जाता है कि यदि शिकायत सच्ची पाई जाए और जायदाद की मिल्कियत का अधिकार प्रमानिण हो जाए तो नज़ीर बेग को उन हवेलियों में दाखि़ल ना होने दया जाए, ताकि जंगमियों को भविष्य में अपनी शिकायत दूर करवाने के लिएए हमारे दरबार में ना आना पडे।

    इस फ़रमान पर 11 शाबान, 13 जुलूस (1672 ई.) की तारीख़ दर्ज है। इसी मठ के पास मौजूद एक-दूसरे फ़रमान में जिस पर पहली रबीउल अव्वल 1078 हि. की तारीख दर्ज़ है, यह उल्लेख है कि ज़मीन का क़ब्ज़ा जंगमियों को दिया गया। फ़रमान में है- ‘‘परगना हवेली बनारस के सभी वर्तमान और भावी जागीरदारों एवं करोडियों को सूचित किया जाता है कि शहंशाह के हुक्म से 178 बीघा ज़मीन जंगमियों (शैव सम्प्रदाय के एक मत के लोग) को दी गई।

    पुराने अफसरों ने इसकी पुष्टि की थी और उस समय के परगना के मालिक की मुहर के साथ यह सबूत पेश किया है कि ज़मीन पर उन्हीं का हक़ है। अतः शहंशाह की जान के सदक़े के रूप में यह ज़मीन उन्हें दे दी गई। ख़रीफ की फसल के प्रारम्भ से ज़मीन पर उनका क़ब्ज़ा बहाल किया जाय और फिर किसी प्रकार की दखलंदाज़ी ना होने दी जाए, ताकि जंगमी लोग (शैव सम्प्रदाय के एक मत के लोग) उसकी आमदनी से अपनी देख-रेख कर सकें।’’

    इस फ़रमान से केवल यही पता नहीं चलता कि औरंगज़ेब स्वभाव से न्यायप्रिय था, बल्कि यह भी साफ़ नज़र आता है कि वह इस तरह की जायदादों के बंटवारे में हिन्दू धार्मिक सेवकों के साथ कोई भेदभाभ नहीं बरता था। जंगमियों को 178 बीघा ज़मीन संभवतः स्वयं औरंगज़ेब ही ने प्रदान की थी, क्योंकि एक दूसरे फ़रमान (तिथि 5 रमज़ान, 1071 हि.) में इसका स्पष्टीकरण किया गया है कि यह ज़मीन मालगुज़ारी मुक्त है।

    औरंगज़ेब ने एक दूसरे फरमान (1098 हि.) के द्वारा एक दूसरी हिन्दू धार्मिक संस्था को भी जागीर प्रदान की। फ़रमान में कहा गया हैः ‘‘बनारस में गंगा नदी के किनारे बेनी माधो घाट पर दो प्लाट खाली हैं। एक मर्क़जी मस्जिद के किनारे रामजीवन गोसाईं के घर के सामने और दूसरा उससे पहले। ये प्लाट बैतुल-माल की मिल्कियत है। हमने यह प्लाट रामजीवन गोसाईं और उनके लड़के को ‘‘इनाम’ के रूप में प्रदान किया, ताकि उक्त प्लाटों पर बाहम्णों एवं फ़क़ीरों के लिए रिहायशी मकान बनाने के बाद वे खुदा की इबादत और हमारी ईश-प्रदत्त सल्तनत के स्थायित्व के लिए दूआ और प्रार्थना करने में लग जाएं। हमारे बेटों, वज़ीरों, अमीरों, उच्च पदाधिकारियों, दरोग़ा और वर्तमान एवं भावी कोतवालों को अनिवार्य है कि वे इस आदेश के पालन का ध्यान रखें और उक्त प्लाट, उपर्युक्त व्यक्ति और उसके वारिसों के क़ब्ज़े ही मे रहने दें और उनसे न कोई मालगुज़ारी या टैक्स लिया जाए और ना उनसे हर साल नई सनद मांगी जाए।’’ लगता है औरंगज़ेब को अपनी प्रजा की धार्मिक भावनाओं के सम्मान का बहुत अधिक ध्यान रहता था।

    हमारे पास औरंगज़ेब का एक फ़रमान (2 सफ़र, 9 जुलूस) है, जो असम के शह गोहाटी के उमानन्द मन्दिर के पुजारी सुदामन ब्राहम्ण के नाम है। असम के हिन्दू राजाओं की ओर से इस मन्दिर और उसके पुजारी को ज़मीन का एक टुकड़ा और कुछ जंगलों की आमदनी जागीर के रूप में दी गई थी, ताकि भोग का खर्च पूरा किया जा सके और पुजारी की आजीविका चल सके। जब यह प्रांत औरंगजेब के शासन-क्षेत्र में आया, तो उसने तुरंत ही एक फरमान के द्वारा इस जागीर को यथावत रखने का आदेश दिया।

    हिन्दुओं और उनके धर्म के साथ औरंगज़ेब की सहिष्णुता और उदारता का एक और सबूत उज्जैन के महाकालेश्वर मन्दिर के पुजारियों से मिलता है। यह शिवजी के प्रमुख मन्दिरों में से एक है, जहां दिन-रात दीप प्रज्वलित रहता है। इसके लिए काफ़ी दिनों से पतिदिन चार सेर घी वहां की सरकार की ओर से उपलब्ध कराया जाता था और पुजारी कहते हैं कि यह सिलसिला मुगल काल में भी जारी रहा। औरंगजेब ने भी इस परम्परा का सम्मान किया। इस सिलसिले में पुजारियों के पास दुर्भाग्य से कोई फ़रमान तो उपलब्ध नहीं है, परन्तु एक आदेश की नक़ल ज़रूर है, जो औरंगज़ब के काल में शहज़ादा मुराद बख़्श की तरफ से जारी किया गया था। (5 शव्वाल 1061 हि. को यह आदेश शहंशाह की ओर से शहज़ादा ने मन्दिर के पुजारी देव नारायण के एक आवेदन पर जारी किया था। वास्तविकता की पुष्टि के बाद इस आदेश में कहा गया है कि मन्दिर के दीप के लिए चबूतरा कोतवाल के तहसीलदार चार सेर (अकबरी घी प्रतिदिन के हिसाब से उपल्ब्ध कराएँ। इसकी नक़ल मूल आदेश के जारी होने के 93 साल बाद (1153 हिजरी) में मुहम्मद सअदुल्लाह ने पुनः जारी की।

    साधारण्तः इतिहासकार इसका बहुत उल्लेख करते हैं कि अहमदाबाद में नागर सेठ के बनवाए हुए चिन्तामणि मन्दिर को ध्वस्त किया गया, परन्तु इस वास्तविकता पर पर्दा डाल देते हैं कि उसी औरंगज़ेब ने उसी नागर सेठ के बनवाए हुए शत्रुन्जया और आबू मन्दिरों को काफ़ी बड़ी जागीरें प्रदान कीं।

    ( मन्दिर तोड़ने की घटना )
    निःसंदेह इतिहास से यह प्रमाण्ति होता हैं कि औरंगजेब ने बनारस के विश्वनाथ मन्दिर और गोलकुण्डा की जामा-मस्जिद को ढा देने का आदेश दिया था, परन्तु इसका कारण कुछ और ही था। विश्वनाथ मन्दिर के सिलसिले में घटनाक्रम यह बयान किया जाता है कि जब औरंगज़ेब बंगाल जाते हुए बनारस के पास से गुज़र रहा था, तो उसके काफिले में शामिल हिन्दू राजाओं ने बादशाह से निवेदन किया कि वहाँ क़ाफ़िला एक दिन ठहर जाए तो उनकी रानियां बनारस जा कर गंगा नदी में स्नान कर लेंगी और विश्वनाथ जी के मन्दिर में श्रद्धा सुमन भी अर्पित कर आएँगी। औरंगज़ेब ने तुरंत ही यह निवेदन स्वीकार कर लिया और क़ाफिले के पडाव से बनारस तक पांच मील के रास्ते पर फ़ौजी पहरा बैठा दिया। रानियां पालकियों में सवार होकर गईं और स्नान एवं पूजा के बाद वापस आ गईं, परन्तु एक रानी (कच्छ की महारानी) वापस नहीं आई, तो उनकी बडी तलाश हुई, लेकिन पता नहीं चल सका। जब औरंगजै़ब को मालूम हुआ तो उसे बहुत गुस्सा आया और उसने अपने फ़ौज के बड़े-बड़े अफ़सरों को तलाश के लिए भेजा। आखिर में उन अफ़सरों ने देखा कि गणेश की मूर्ति जो दीवार में जड़ी हुई है, हिलती है। उन्होंने मूर्ति हटवा कर देखा, तो तहखाने की सीढी मिली और गुमशुदा रानी उसी में पड़ी रो रही थी। उसकी इज़्ज़त भी लूटी गई थी और उसके आभूषण भी छीन लिए गए थे। यह तहखाना विश्वनाथ जी की मूर्ति के ठीक नीचे था। राजाओं ने इस हरकत पर अपनी नाराज़गी जताई और विरोघ प्रकट किया। चूंकि यह बहुत घिनौना अपराध था, इसलिए उन्होंने कड़ी से कड़ी कार्रवाई कने की मांग की। उनकी मांग पर औरंगज़ेब ने आदेश दिया कि चूंकि पवित्र-स्थल को अपवित्र किया जा चुका है। अतः विश्वनाथ जी की मूर्ति को कहीं और ले जाकर स्थापित कर दिया जाए और मन्दिर को गिरा कर ज़मीन को बराबर कर दिया जाय और महंत को गिरफतार कर लिया जाए। डाक्टर पट्ठाभि सीता रमैया ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘द फ़ेदर्स एण्ड द स्टोन्स’ मे इस घटना को दस्तावेजों के आधार पर प्रमाणित किया है। पटना म्यूज़ियम के पूर्व क्यूरेटर डा. पी. एल. गुप्ता ने भी इस घटना की पुस्टि की है।

    (मस्ज़िद तोड़ने की घटना )
    गोलकुण्डा की जामा-मस्जिद की घटना यह है कि वहां के राजा जो तानाशाह के नाम से प्रसिद्ध थे, रियासत की मालगुज़ारी वसूल करने के बाद दिल्ली के नाम से प्रसिद्ध थे, रियासत की मालुगज़ारी वसूल करने के बाद दिल्ली का हिस्सा नहीं भेजते थे। कुछ ही वर्षां में यह रक़म करोड़ों की हो गई। तानाशाह ने यह ख़ज़ाना एक जगह ज़मीन में गाड़ कर उस पर मस्जिद बनवा दी। जब औरंज़ेब को इसका पता चला तो उसने आदेश दे दिया कि यह मस्जिद गिरा दी जाए। अतः गड़ा हुआ खज़ाना निकाल कर उसे जन-कल्याण के कामों में ख़र्च किया गया।

    ये दोनों मिसालें यह साबित करने के लिए काफ़ी हैं कि औरंगज़ेब न्याय के मामले में मन्दिर और मस्जिद में कोई फ़र्क़ नहीं समझता था। ‘‘दर्भाग्य से मध्यकाल और आधुनिक काल के भारतीय इतिहास की घटनाओं एवं चरित्रों को इस प्रकार तोड़-मरोड़ कर मनगढंत अंदाज़ में पेश किया जाता रहा है कि झूठ ही ईश्वरीय आदेश की सच्चाई की तरह स्वीकार किया जाने लगा, और उन लोगों को दोषी ठहराया जाने लगा जो तथ्य और मनगढंत बातों में अन्तर करते हैं। आज भी साम्प्रदायिक एवं स्वार्थी तत्व इतिहास को तोड़ने-मरोडने और उसे ग़लत रंग देने में लगे हुए हैं।

    साभार पुस्तक ‘ भारतीय संस्क्रति और मुग़ल सम्राज्य ‘‘ प्रो. बी. एन पाण्डेय, प्रकाशक हिन्दी अकादमी, दिल्ली 1993

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: